RajPrisons

RAJPRISONS

Rajneeti Vigyan Ki Paribhasha

Rajneeti Vigyan Ki Paribhasha

राजनीति विज्ञान की परिभाषा :- इस लेख हम आज  “राजनीति विज्ञान के बार में विस्तार से चर्चा  करने जा रहे है।  यदि आपका भी प्रश्न है कि राजनीति विज्ञान किसे कहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़िए.। इस लेख को पढ़ने के बाद आप राजनीति विज्ञान के बार में  आसानी से समझ सकेंगे. तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को की rajniti vigyan ki paribhasha / Rajneeti Vigyan Ka Arth किया है और इसका अर्थ किया है  आज हम आपको इसके बार में सही सही से बताने की पूरी कोशिश करेंगे तो चलिए इसके बार में अध्धय्यन करते है ।

Rajneeti Vigyan Ki Paribhasha
Rajneeti Vigyan Ki Paribhasha

Rajneeti Vigyan Ka Arth  

“राजनीती विज्ञान ” का अर्थ है – राजनीति विज्ञान या राजनीतिशास्त्र सामाजिक विज्ञान ( समाज  )की एक शाखा है। जिसमे  मानव जीवन के राजनीतिक पक्ष का अध्ययन होता  है। राजनीती विज्ञान को अंग्रेजी भाषा मे  ‘political science’ कहते है। “राजनीती विज्ञान “अन्तर्गत सामाजिक जीवन के राजनैतिक सम्बन्ध एवं संगठनों का अध्ययन किया जाता है।

राजनीतिशास्त्र वह विज्ञान है जो मानव के राजनीतिक और सामाजिक प्राणी होने के साथ साथ  उससे संबंधित राज्य और सरकार दोनों संस्थाओं का अध्ययन होता  है। राजनीति विज्ञान मानव अध्ययन का एक विस्तृत विषय या क्षेत्र या विशेष अंग है 

राजनीती विज्ञान का अर्थ

राजनीती विज्ञान “political science” – शब्द की यूनानी भाषा के शब्द “पॉलिटिक्स” राजनीति’ का पर्यायवाची अंग्रेजी शब्द से बना है (राजनीती शब्द अंग्रेजी  भाषा के “politics”  (पॉलिटिक्स) का हिंदी रूपांतरण है )। और ग्रीक यूनानी भाषा के  “Polis” (‘पॉलिस’)शब्द से बना है जिसमे ‘पॉलिस’ शब्द का अर्थ है – नगर (Town)’ अथवा ’राज्य’ (state) है प्राचीन कल में प्रत्येक राज्य या नगर में एक स्वतंत्र राज्य के रूप में संगठत हुआ था  पॉलिटिक्स  पॉलिटिक्स शब्द से उन नगर राज्यों से सम्बंधित शासन की विद्या का बोध होता था। धीरे-धीरे नगर राज्यों (सिटी स्टेट्स) का स्थान राष्ट्रीय राज्योंं  ने ले लिया ।राजनीति शब्द दो ग्रीक शब्दों “पोलिश और राजनीति “से लिया गया है।

पॉलिटिक्स शब्द का सबसे पहले प्रयोग सुप्रसिद्ध यूनानी विद्वान अरस्तु द्वारा किया गया है 

 

राजनीती में 500 ई, पु  पहले यूनानी लोगे इन छोटे छोटे राज्य व नगर में रहेत थे

अरस्तु के अनुसार :- मनुष्य  स्वभाव रूप से राजनैतिक प्राणी है जो अपने राज्य की जनता के साथ राजनीती करता है अगर कोई मनुष्य राज्य के बिना रहता है तो वे या तो देवता है या पशु है 

राजनीति विज्ञान का अर्थ :- राजनीति विज्ञान का अर्थ  हम यूनानी विद्वान “अरस्तू” के शब्दो से समझने की कोशिश करते है, अरस्तु कहते है  कि मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। उनका स्वभाव ऐसा होता है की उसे  समाज में रहने के लिए प्रेरित /प्रेरणा करता है और मनुष्य की  जरूरतें को  समाज में रहने के लिए मजबूर करती हैं। समाज के मनुष्य को यहां तक ​​ कहा जाना है  कि जो लोग बिना समाज के रह सकते हैं, वे देवता या जानवर हैं।

Rajniti Vigyan Ki Paribhasha

 

wikipedia.org