April 29, 2024

RajPrisons

All Subject Notes Hindi Mein

सफेद सोना किसे कहते हैं

सफेद सोना किसे कहते हैं

सफेद सोना किसे कहते हैं

Safed Sona Kise Kaha Jata Hai  : क्या दोस्तों आप भी जानना चाहते है की  सफेद सोना किसे कहते हैं तो आपको अगर जानना है आज हम आपको सफेद सोना के बार में पोस्ट लेकर आये है तो आप इस पोस्ट को लास्ट तक   तक जरुर पढना क्योकि  इस पोस्ट में हम आपके साथ सफ़ेद सोना के बारे में जानकारी सभी प्रकार की जानकारी  शेयर करने वाले है।

सफेद सोना किसे कहते हैं
सफेद सोना किसे कहते हैं

सफेद सोना किसे कहते हैं?

प्लैटिनम नामक धातु को सफेद सोना कहा जाता है यह दिखने में चांदी के समान ही होता है। धरती पर कई धातुएं मोजूद है उन्ही मे से एक है प्लैटिनम धातु है उसे सफ़ेद सोना कहा जाता है । यह एक आघातवर्धनीय, भारी, मुलायम धातु है जो कांच के साथ घुलनशील है तथा प्लैटिनम धातु  से सोने की तरह आभूषणों का निर्माण किया जाता है। कहा जाता है कि 1741 में चार्ल्स वुड यूरोप में प्लैटिनम लाए थे। प्लैटिनम के मुख्य प्रकार सपंजी प्लैटिनम, ब्लैक प्लैटिनम, कालोंईड प्लैटिनम है। प्लैटिनम के मुख्य उपयोग प्रयोगशालाओ में, विद्ध्युत उपकरणों में, आभूषणों में, दन्त चिकित्सा में होता है।

सफेद सोना किस फसल को कहते हैं

किसानो का सफ़ेद सोना इस फसल को कहा जाता है। प्रदेश में खरीफ की नकदी फसल कपास है। यह लवण सहनशील होने के कारण कमजोर भूमि में भी सफलतापूर्वक उगाई जा सकती है। कम लागत में ज्यादा आमदनी देने के कारण किसान इसे सफेद सोना भी कहकर पुकारते हैं। वहीं सिंचाई के लिए पानी की कमी के कारण पिछले कई सालों से जिले के किसान कपास की तरफ ज्यादा आकर्षित हुए हैं। कृषि उपनिदेशक पीसी मीणा ने बताया कि कपास की बुआई 15 अप्रैल से 15 मई तक की जा सकती है।

राजस्थान में यह कपास फसल का  बुआई का पीक समय है। उन्होंने बताया कि जिले में 25 हजार 543 हैक्टेयर भूमि में कपास की खेती की जाती है। मीनो  के अनुसार बीटी कॉटन (कपास) अधिक उपज देने वाली अमेरिकन कपास की बीटी संकर किस्म है। इसकी पत्तियां हरी चौड़ी होती हैं इस प्रकार से कपास की खती की जाती है । इसमें 4 से 5 मनोपोड, 15 से 20 सिम-पोडियम शाखाएं होती है।

राजस्थान का सफेद सोना किसे कहते हैं

यह 165 से 170 दिन में पककर तैयार हो जाती है। इसकी औसत पैदावार लगभग 25 क्विंटल प्रति हैक्टेयर होती है। प्रदेश में अलवर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर, जैसलमेर, बांसवाड़ा डूंगरपुर जिलों में इसकी पैदावार की जाती है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में नरमा बीटी कॉटन तथा देशी कपास की बिजाई की जाती है। बीटी संकर किस्में आने से कपास की खेती में नई क्रांति आई है। कपास छेदक कीट प्रतिरोधी क्षमता के कारण ज्यादा उपज देती है। किसान ज्यादा उपज देने वाली किस्मों से सही समय, समुचित खाद तथा पौध संरक्षण उपाय अपनाकर कम लागत में भी ज्यादा पैदावार ले सकते हैं।

FAQ

Q #1 . सफेद सोना किस फसल को कहा जाता है ?

ANS:-  कपास

Q #2 . सफेद सोना किसे कहा जाता है?

ANS:- प्लैटिनम धातु

Q #3 . राजस्थान का सफेद सोना किसे कहते हैं?

ANS:-  कपास

Q #4 . सफेद सोना कहां पाया जाता है?

ANS:-  प्लैटिनम धातु से सफेद सोना बनाया जाता है यह सफेद सोना कहा पर ही नहीं मिलता है

Q #5 .सफेद सोना किसे कहते हैं?

ANS:- प्लैटिनम धातु

दोस्तों इस पोस्ट  में राजस्थान का सफेद सोना किसे कहते हैं, Safed Sona Kise Kaha Jata Hai के बारे में जानकारी आपके साथ शेयर किया है इस पोस्ट को लिखने का हमारा उद्देश्य सिर्फ यह है कि आज तक अधिकतम और अच्छी जानकारी आप तक पहुंचा पाए अगर आपको इस तरह और भी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट में बता सकते हैं हम आपके लिए ऐसी अधिकतम जानकारी लाते रहेंगे।

error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x